Yeh Reshmi Zulfein – Mohammed Rafi

Yeh Reshmi Zulfein
Mohammed Rafi
यह रेशमी जुल्फे, यह शरबती आँखे
इन्हे देखकर जी रहे हैं सभी
इन्हे देखकर जी रहे हैं सभी
यह रेशमी जुल्फे, यह शरबती आँखे
इन्हे देखकर जी रहे हैं सभी
इन्हे देखकर जी रहे हैं सभी
जो यह आँखे शरम से झुक जाएगी
जो यह आँखे शरम से झुक जाएगी
सारी बाते यही बस रुक जाएगी
चुप रहना यह अफ़साना, कोई इन्न को ना बतलाना
के इन्हे देखकर पी रहे हैं सभी
इन्हे देखकर पी रहे हैं सभी
यह रेशमी जुल्फे, यह शरबती आँखे
इन्हे देखकर जी रहे हैं सभी
इन्हे देखकर जी रहे हैं सभी
जुल्फे मगरूर इतनी हो जाएगी
जुल्फे मगरूर इतनी हो जाएगी
दिल को तड़पाएगी
जी को तरसाएगी
यह कर देंगी दीवाना, कोई इनको ना बतलाना
के इन्हे देखकर जी रहे हैं सभी
इन्हे देखकर जी रहे हैं सभी
सारे इनकी शिकायत करते है
सारे इनकी शिकायत करते है
फिर भी इनसे मोहबात करते है
ये क्या जादू है जाने फिरे चाक गिरे वो दीवाने
इन्हे देखकर सी रहे हैं सभी
इन्हे देखकर सी रहे हैं सभी
यह रेशमी जुल्फे, यह शरबती आँखे
इन्हे देखकर जी रहे हैं सभी
इन्हे देखकर जी रहे हैं सभी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top